पहले पद्मावती को देखें, फिर बोलें – डॉ. वेदप्रताप वैदिक